एंटिवाइरस क्या है प्रकार लाभ हानी और कैसे डाउनलोड करें? पूरी जानकारी

एंटिवाइरस क्या है एंटिवाइरस को कम्प्युटर मे कैसे डाउनलोड करें,एंटिवाइरस डाउनलोड करने के क्या फायदे और नुकसान है. Antivirus kya hai, Antivirus software kaise download karen, Antivirus download karne ka tarika.

आज के समय मे कम्प्युटर इंटरनेट हमारे लिए कितने जरूरी है यह हम सभी जानते है. आजकल सारे offices हो फिर किसी बच्चे की पढ़ाई सारी चीजे ऑनलाइन आ गई. ऐसे मे कम्प्युटर को सुरक्षित रखना बहुत जरूरी है. क्योकि जैसे-जैसे हम इंटरनेट पर ज्यादा समय व्यतीत करते है तो ऐसे मे साइबर अपराध भी बहुत बढ़ चुके है.

हम अपने कम्प्युटर मे बहुत सारी files,photos,videos,PDF,scan images और document file इत्यादि अपने कम्प्युटर मे save करके रखते है. ऐसे मे आप इंटरनेट पर जाकर कुछ ऐसी लिंक्स पर क्लिक कर देत है या किसी unknown usb pen drive को अपने लैपटाप या कम्प्युटर मे लगाते है.

ऐसे मे काफी हद तक chances है की आपकी कम्प्युटर या लैपटाप मे स्थित files delete हो जाये या corrupt हो जाये. कई बार वह file,photos,pdf,document आपके लिए बहुत जरूरी हो सकता है.

आपके कम्प्युटर या लैपटाप की सुरक्षा करना बहुत जरूरी है. इसलिए आज हम जानेगे कि Antivirus kya hai, Antivirus ko download kaise karte hai के विषय मे पूरी जानकारी प्राप्त करेंगे.

एंटिवाइरस क्या है (Antivirus kya hai)

antivirus एक प्रकार software program(code) होता है जो आपके कम्प्युटर,usb pen drive, downloading files,adware,spyware,fraud tools,hijackers,rootkits,infected urls मे मौजूद virus को scan करने और उसे डिलीट करने का काम करता है. जब तक यह एंटिवाइरस आपके कम्प्युटर मे रहेगा तब तक कोई वाइरस आपके computer,laptop,download files या usb drive मे आने से रोकता है.

कम्प्युटर मे पहला वाइरस 1971 मे detect किया गया था जिसका नाम “Creeper virus” था. इस वाइरस को डिलीट करने के लिए Ray Tomlinson ने ‘Reeper‘ नाम का प्रोग्राम लिखा. Reeper पहले antivirus के रूप मे जाना जाता है.

इस तरह से आपका कम्प्युटर पूरी तरह से सुरक्षित रहता है. अगर आपके कम्प्युटर मे वाइरस के कारण कुछ फ़ाइल डिलीट हो गई तो आप हमारे आर्टिक्ल best data recovery software के बारे मे पढ़ सकते है.

एंटिवाइरस न होने के नुकसान

अगर आप बिना antivirus के कम्प्युटर या लैपटाप चला रहे है तो internet browsing, inftected urls पर आप visit कर रहे है तो आपके कम्प्युटर मे वाइरस आने काफी chances बढ़ जाते है. इसके अलावा आप अगर pendrive,adapter का इस्तेमाल करते है तो भी आपके कम्प्युटर मे वाइरस आ सकता है.

वाइरस आने से आपके कम्प्युटर मे तमाम तरह की activity जैसे hang होना, अचानक नई files खुल जाना, computer पर अपना कंट्रोल न होना, या आपको files डिलीट हो जाना या फिर आपका डाटा लीक हो जाना. कई बार आपके बैंक के डाटा को भी ये वाइरस चुरा लेते है जिसकी आपको भारी कीमत चुकानी पड़ती है.

इस तरह की अनचाही चीजे घटित होने लगती है. इसलिए आपके कम्प्युटर मे एंटिवाइरस का होना बहुत जरूरी है.

एंटिवाइरस के प्रकार (Antivirus ke prakar)

Antivirus: अगर आप locally computer या कभी कभी internet browsing करते है तो आप कोई भी इंटरनेट पर स्थित एंटिवाइरस को चुन सकते है. या फिर आपके कम्प्युटर मे भी preinstalled antivirus होता है. system security, performance boost up इत्यादि चीजे आपके कम्प्युटर मे पहले से मौजूद होती है.

Internet Security: अगर आप इंटरनेट पर काफी ज्यादा active रहते है. चीज़ों पर रिसर्च करते है, बैंक से पैसे ट्रान्सफर जैसे netbanking, debit card,credit card का इस्तेमाल करते है तो आपको internet security anti-virus का इस्तेमाल करना चाहिए.

Total Security: आप अपने कम्प्युटर या laptop मे पूरी तरह सुरक्षा performance boost, security, internet protection, external device protection (pendrive,usb adapter) इत्यादि पूरी तरह सुरक्षा चाहते है. तो आप total security antivirus का इस्तेमाल कर सकते है.

एंटिवाइरस कैसे काम करता है (Antivirus kaise kam karta hai)

एंटिवाइरस आपके कम्प्युटर मे install करने के बाद यह कैसे काम करता है. यह जानना बहुत जरूरी है आपको मालूम है वाइरस कहाँ से आता है. किसी भी वाइरस के बनने के पीछे एक कारण होता है. की वह वाइरस किस उद्देशय को लेकर बनाया गया है. वहीं कुछ study और रिसर्च के बाद यह पता चला कि वाइरस बनाने का काम वाइरस बनाने वाली कंपनियाँ ही करती है.

क्योकि अगर वाइरस होगा नही तो antivirus कौन खरीदेगा. पता नही यह बात कितनी हद सही है या गलत.

चलिये हम जानते है कि computer मे antivirus kaise kaam karta hai पूरी प्रक्रिया समझने कि कोशिश करते है.

वाइरस डिटेक्ट करने का तरीका

  • Sandbox detection
  • Data Mining techniques
  • signature based detection
  • Heuristic based detection
  • Behavioral based detection

टॉप एंटीवायरस कौनसे है ( Top Antivirus )

Norton Security standard: अगर आप gamers है या आप ऑनलाइन इंटरनेट सर्फिंग, banking privacy, data privacy, wifi privacy रखना चाहते है तो norton आपके लिए बहुत अच्छा है. इसके साथ activity को hackers से छुपाने के लिए आपको VPN भी दिया जाता है.

Price Starts499 Rs
Websitehttps://in.norton.com/

Bitdefender Antivirus: ये एंटिवाइरस Antitheft, device security, Antispam, Network threat prevention, Advance threat defence, Ransomware,spyware,adware,webcam protection इत्यादि सर्विस देता है. साथ ही आपको VPN भी देता है ताकि आप secure इंटरनेट सर्फिंग कर सके.

Pricing starts29.99$ peryear (for three device)
Websitehttps://www.bitdefender.com/

mcafee total protection: यह आपके mobile,pc, और tablet तीनों मे अच्छी protection देता है. किसी भी तरह के malware, spyware, internet security जैसी सुबिधाए देता है. और इसका प्लान आपको एक साल के लिए 2999 रुपये का लगता है. जिसमे आपको 5 डिवाइस मे protection का सपोर्ट मिलता है.

Pricing Starts2999 Rs
Websitehttps://www.mcafee.com/

Quickheal total security: इसके बारे मे तो आपने जरूर सुना होगा है क्योकि एंटिवाइरस के फील्ड मे ये बहुत प्रसिद्ध है. इसको best antivirus होने का अवार्ड भी मिल चुका है. यह भी malware, spyware,adblocker, threat जैसी उपयोगी चीजे आपको देता है. आप चाहे तो इसका trial version भी इसकी वैबसाइट पर जाकर डाउनलोड कर सकते है.

इसकी pricing 1909 रुपये से स्टार्ट होकर इनके पास कई सारे बिज़नस और पर्सनल पीसी से संबन्धित प्लान है. आप इनकी वैबसाइट पर जाकर चेक कर सकते है.

Pricing starts1909 Rs
Websitehttps://www.quickheal.co.in/

एंटिवाइरस के लाभ और हानी

एंटिवाइरस के लाभ और हानी क्या है (antivirus ke labh haani kya hai). आपके दिमाग मे यह जरूर आया होगा कि Antivirus के सिर्फ लाभ होते है या फिर कुछ हानी भी होती है. तो आइये इनके विषय मे जानते है.

Antivirus के लाभ

  • आप safe banking कर पाएंगे
  • आपका डाटा चोरी नही होगा.
  • आपका video cam सुरक्षित रहेगा.
  • अचानक आपके कम्प्युटर का कंट्रोल नही खोएगा
  • आप किसी के भी usb drive को अपने pc मे चला पाएंगे.

Antivirus की हानी

  • आपको हर साल पैसे देने पड़ते है.
  • आपका सिस्टम slow होने लगता है.
  • protection के लिए आपके कम्प्युटर मे इंटरनेट जरूरी है.
  • वाइरस से infected फ़ाइल को repair न कर पाने वह उसे डिलीट कर देता है.
  • अपडेट न करने पर वह सही से काम नही करता है.
एंटिवाइरस खरीदने से पहले कुछ जरूरी बाते

आपको एंटिवाइरस खरीदने से पहले कुछ चीजे अपने दिमाग मे रखना है कि आपको अपनी जरूरत के हिसाब से antivirus को खरीदना है. अगर आप सिर्फ ऑफलाइन काम करते है तो आपको सिर्फ बेसिक प्लान ही खरीदना है. यहीं पर आप internet browsing करते है net पर share market, banking इत्यादि काम करते है तो आपको ऑनलाइन से संबन्धित प्लान को खरीदना है.

आप नेट सर्फिंग, usb pendrive, usb adapter, system boost up, file sharing इत्यादि सभी का इस्तेमाल करना चाहते है. तो आपको antivirus total security से संबन्धित खरीदना चाहिए. ये आपको personal use के लिए है आप चाहे तो अपने बिज़नस के लिए भी ले सकते है.

आज हमने सीखा

आज की इस पोस्ट मे हमने Antivirus kya hai, Antivirus kaise kaam karta hai के विषय मे पूरी जानकारी प्राप्त की. आजकल हर कोई कम्प्युटर इंटरनेट का इस्तेमाल करता है net surfing, money transfer, netbanking, shopping, online file sharing करता है. तो ऐसे मे आपके phone, pc,laptop मे antivirus तो होना ही चाहिए.

antivirus के न होने से हमारा कम्प्युटर खराब हो सकता है, डाटा चोरी हो सकता है आपका webcam access किया जा सकता है. आपको सही तरीके से इंटरनेट का इस्तेमाल करना है किसी भी ऐसे unknown url पर क्लिक न करें. न ही अपनी पर्सनल इन्फॉर्मेशन किसी को बताए या भेजे जब तक आप उसे जानते न हो.

आपका कोई शिकायत या सुझाब है तो आप हमसे कमेंट करके पूंछ सकते है हमारी टीम आपसे जल्द ही संपर्क करेगी.

ये भी पढे…

जानिए आपकी पर्सनल आईडी पर कितने मोबाइल नंबर रजिस्टर है?

Ola electric scooter online booking कैसे करें?

covid 19 vaccine certificate download कैसे करें?

बिना मोबाइल नंबर रजिस्टर आधार डाउनलोड कैसे करें?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *